Jaishankar Prasad ji ka jeevan parichay | जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचाय

Jaishankar prasad in hindi
jai shankar prasad
पूरा नाममहाकवि जयशंकर प्रसाद
जन्म30 जनवरी, 1889 ई.
जन्म भूमिवाराणसी, उत्तर प्रदेश
मृत्यु15 नवम्बर, सन् 1937 (आयु- 48 वर्ष)
मृत्यु स्थानवाराणसी, उत्तर प्रदेश
अभिभावकदेवीप्रसाद साहु
कर्म भूमिवाराणसी
कर्म-क्षेत्रउपन्यासकार, नाटककार, कवि
मुख्य रचनाएँचित्राधार, कामायनी, आँसू, लहर, झरना, एक घूँट, विशाख, अजातशत्रु, आकाशदीप, आँधी, ध्रुवस्वामिनी, तितली और कंकाल
विषयकविता, उपन्यास, नाटक और निबन्ध
भाषाहिंदी, ब्रजभाषा, खड़ी बोली
नागरिकताभारतीय
शैलीवर्णनात्मक, भावात्मक, आलंकारिक, सूक्तिपरक, प्रतीकात्मक
इन्हें भी देखेंमहादेवी वर्मा, सुमित्रानंदन पंत
Jaishankar Prasad

Jaishankar Prasad ka jivan parichay – जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचाय

जयशंकर प्रसाद (jaishankar prasad) – सन् 1889-1937 ई.

Jaishankar prasad ji का जन्म काशी के एक सुप्रसिद्ध वैश्य परिवार में 30 जनवरी सन् 1889 ई. में हुआ था। काशी में इनका परिवार सुँघनी साहू के नाम से प्रसिद्ध था। इसका कारण यह था कि इनके यहाँ तम्बाकू का व्यापार होता था। Jaishankar prasad ji के पितामह का नाम शिवरत्न साहू और पिता का नाम देवीप्रसाद था। प्रसाद जी के पितामह शिव के परम भक्त और दयालु थे। इनके पिता भी अत्यधिक उदार और साहित्य-प्रेमी थे।

Jaishankar prasad ji का बाल्यकाल सुख के साथ व्यतीत हुआ। इन्होंने बाल्यावस्था में ही अपनी माता के साथ धाराक्षेत्र, ओंकारेश्वर, पुष्कर, उज्जैन और ब्रज आदि तीर्थों की यात्रा की। अमरकण्टक पर्वत श्रेणियों के बीच , नर्मदा में नाव के द्वारा भी इन्होंने यात्रा की। यात्रा से लौटने के पश्चात् Jaishankar prasad ji के पिता का स्वर्गवास हो गया। पिता की मृत्यु के चार वर्ष पश्चात् इनकी माता भी इन्हें संसार में अकेला छोड़कर चल बसीं।

प्रसाद जी के पालन-पोषण और शिक्षा-दीक्षा का प्रबन्ध उनके बड़े भाई शर्भूरत्न जी ने किया। सर्वप्रथम प्रसाद जी का नाम क्वीन्स कॉलेज में लिखवाया गया, लेकिन स्कूल की पढ़ाई में इनका मन न लगा, इसलिए इनकी शिक्षा का प्रबन्ध घर पर ही किया गया। घर पर ही वे योग्य शिक्षकों से अंग्रेजी और संस्कृत का अध्ययन करने लगे। प्रसाद जी को प्रारंभ से ही साहित्य के प्रति अनुराग था। वे प्रायः साहित्यिक पुस्तकें पढ़ा करते थे और अवसर मिलने पर कविता भी किया करते थे। पहले तो इनके भाई इनकी काव्य-रचना में बाधा डालते रहे, परन्तु जब इन्होंने देखा कि प्रसाद जी का मन काव्य-रचना में अधिक लगता है, तब इन्होंने इसकी पूरी स्वतंत्रता इन्हें दे दी।

प्रसाद जी के हृदय को गहरा आघात लगा। इनकी आर्थिक स्थिति बिगड़ गई तथा व्यापार भी समाप्त हो गया। पिता जी ने सम्पति बेच दी। इससे ऋण के भार से इन्हें मुक्ति भी मिल गई। परन्तु इनका जीवन संघर्षों और झंझावातों में ही चक्कर खाता रहा यद्यपि प्रसाद जी बड़े संयमी थे, किन्तु संघर्ष और चिन्ताओं के कारण इनका स्वास्थ्य खराब हो गया। इन्हें यक्ष्मा रोग ने धर दबोचा। इस रोग से मुक्ति पाने के लिए इन्होंने पूरी कोशिश की, किन्तु सन् 1937 ई. की 15 नवम्बर को रोग ने इनके शरीर पर अपना पूर्ण अधिकार कर लिया और वे सदा के लिए इस संसार से विदा हो गए।

जयशंकर प्रसाद जी की प्रमुख कृतियाँ (Jai Shankar Prasad ji ki pramukh krutiyan)

कृतियाँ –

  • काव्य- ऑसू, कामायनी, चित्राधर, लहर, झरना
  • कहानी- ऑँधी, इन्द्रजाल , छाया, प्रतिध्वनि (प्रसाद जी अंतिम काहनी सालवती है । )
  • उपन्यास- तितली, कंकाल इरावती
  • नाटक- सज्जन, कल्याणी-परिणय, चन्द्रगुप्त, स्कन्दगुप्त, अजातशत्रु, प्रायश्चित, जनमेजय का नाग यज्ञ, विशाख, धुवस्वामिनी
  • निबन्ध- काव्यकला एवं अन्य निबन्ध

Jai Shankar Prasad Ji ki भाषा-शैली

जिस प्रकार Jaishankar prasad ji के साहित्य में बिविधता है। उसी प्रकार उनकी भाषा ने भी कई स्वरूप धारण किए है। इनकी भाषा का स्वरूप बिषयों के अनुसार ही गठित हुआ है। प्रसाद जी ने अपनी भाषा का श्रृंगार संस्कृत के तत्सम शब्दों से किया है। भावमयता इनकी भाषा शैली प्रधान विशेषता है। भावों ओर बिचारों के अनिल शब्द इनकी भाषा में सहज रूप से आ गए है। प्रसाद जी की भाषा में मुहाबरों और लोकोक्तियों के प्रयोग नहीं के बराबर है। बिदेशी शब्दों के प्रयोग भी इनकी भाषा में नहीं मिलते।

शैलीप्रसाद जी की शैली को पाँच भागों में विभक्त है

  • विचारात्मक शैली
  • इतिवृत्तात्मक शैली
  • चित्रात्मक शैली
  • अनुसन्धानात्मक शैली
  • भावात्मक शैली

हिन्दी साहित्य में स्थान

बॉग्ला-साहित्य में जो स्थान रवीनद्रनाथ ठाकुर का ओर रूसी-साहित्य में जो स्थान तुर्गनेव का है, हिन्दी साहित्य में वही स्थान प्रसाद जी का है। रवीन्द्रनाथ ठाकुर और तुर्गनेव की भाँति प्रसाद जी ने साहित्य के विभिनन क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया है। प्रसाद जी कवि भी थे और नाटककार भी, उपन्यासकार भी थे और कहानीकार भी। इसमें सन्देह नहीं कि जब तक हिन्दी – साहित्य का अस्तित्व रहेगा. प्रसाद जी के नाम को विस्मृत किया जाना संभव नहीं हो सकेगा।

Jaishankar Prasad ka jivan parichay

jaishankar prasad ji ka janm kashi ke ek suprasidh veshya parivaar mein 30 january sun 1889 ee mein hua tha. kashi mein inka parivaar sunghani saahoo ke naam se prasidh tha. iska karan ye tha ki inke yahaan tambaakoo ka vyapaar hota tha. jaishankar prasad ji ke pitamah ka naam shivaratn saahoo aur pita ka naam deviprasad tha. prasad ji ke pitamah shiv ke param bhakt aur dayalu the. inke pita bhi atyadhik udaar aur saahity-premee the.

jaishankar prasad ji ka balya kaal sukh ke saath vyateet hua. inhonne balyavastha mein hi apanee mata ke saath dharakshetra, omkareshwar, pushkar, ujjain aur braj adi tirtho ki yaatra kee. amarakantak parvat shreniyon ke beech , narmada mein naav ke dvaara bhee inhonne yaatra kee. yaatra se lautane ke pashchaat jai shankar prasad ji ke pita ka swargvas ho gaya. pita ki mrityu ke chaar varsh pashchaat inki mata bhi inhe sansaar mein akela chodakar chal basee.

prasad ji ke palan-poshan aur shiksha-deeksha ka prabandh unake bade bhai sharbhuratn ji ne kiya. sarvapratham prasad ji ka naam queens college mein likhavaya gaya, lekin school ki padhai mein inaka mun na laga, isalie inaki shiksha ka prabandh ghar par hi kiya gaya. ghar par hi ve yogya shikshako se angreji aur sanskrit ka adhyayan karane lage. prasad ji ko prarambh se hi saahitya ke prati anuraag tha. ve prayah sahityik pustaken padha karate the aur avasar milane par kavita bhi kiya karate the. pahale to inake bhai inaki kaavya-rachana mein badha dalate rahe, parantu jab inhone dekha ki prasad ji ka mun kaavya-rachana mein adhik lagata hai, tab inhonne isaki poori swatantrata inhe de di.

jaishankar prasad ji ke hriday ko gahara aaghat laga. inki aarthik sthiti bigad gai tatha vyapaar bhi samapt ho gaya. pita ji ne sampati bech di. isase rin ke bhaar se inhe mukti bhi mil gaee. parantu inka jeevan sangharshon aur jhanjhavaaton mein hi chakkar khaata raha yadyapi prasad ji bade sanyami the, kintu sangharsh aur chintaon ke kaaran inka swaasth kharab ho gaya. inhen yakshma rog ne dhar dabocha. is rog se mukti paane ke lie inhone puri koshish ki, kintu sun 1937 ee ki 15 november ko rog ne inake shareer par apana poorn adhikaar kar liya aur ve sada ke lie is sansaar se vida ho gae.

jai shankar prasad ji ki pramukh krutiyan

krtiyaan

  • kaavy- aasun, kamayni, chitradhar, lahar, jharana
  • kahani – aandhi, indrajaal , chhaaya, pratidhvani (prasad ji antim kahani salavati hai . )
  • upanyaas – titali, kankaal iraavati
  • naatak- sajjan, kalyani – parinay, chandragupt, skandagupt, ajaatshatru, prayashchit, janamejay ka naag yagy, vishaakh, dhuvaswaamini
  • nibandh- kaavyakala evam anya nibandh

jai shankar prasad ji ki bhasha-sheli

jis prakaar jaishankar prasad ji ke saahitya mein vividhata hai. usee prakaar unaki bhaasha ne bhi kaee swarup dhaaran kie hai. inki bhasha ka swarup bishayon ke anusaar hi gathit hua hai. prasad ji ne apanee bhasha ka shringaar sanskrit ke tatsam shabdo se kiya hai. bhaavamayata inki bhasha sheli pradhan visheshata hai. bhaavon or vichaaron ke anil shabd inki bhasha mein sahaj roop se aa gae hai. prasad ji ki bhasha mein muhavaron aur lokoktiyon ke prayog nahin ke baraabar hai. videshi shabdo ke prayog bhi inki bhasha mein nahin milate.

sheli – prasad ji ki sheli paanch bhaago mein vibhakt hai

  • vichaaraatmak sheli
  • itivrttaatmak sheli
  • chitraatmak sheli
  • anusandhaanaatmak sheli
  • bhaavaatmak sheli

hindi saahitya mein sthaan

bogla-saahitya mein jo sthaan rabindranath tagore ka or rusi-saahitya mein jo sthaan turganev ka hai, hindi saahitya mein vahi sthaan prasad ji ka hai. rabindranath tagore aur turganev ki bhaanti prasad ji ne saahitya ke vibhinan kshetron mein apani pratibha ka pradarshan kiya hai. prasad ji kavi bhi the aur naatak kaar bhi, upanyaaskaar bhi the aur kahaanikar bhi. isame sandeh nahin ki jab tak hindi – saahitya ka astitv rahega. prasad ji ke naam ko vismrit kiya jaana sambhav nahin ho sakega.