सुमित्रानंदन पंत | Sumitranandan pant in hindi

Sumitranandan pant, sumitra nandan pant, sumitra nandan panth
Sumitranandan Pant

Sumitranandan Pant

पूरा नामसुमित्रानंदन पंत
अन्य नामगुसाईं दत्त
जन्म20 मई 1900
जन्म भूमिकौसानी, उत्तराखण्ड, भारत
मृत्यु28 दिसंबर, 1977
मृत्यु स्थानइलाहाबाद, उत्तर प्रदेश, भारत
कर्म भूमिइलाहाबाद
कर्म-क्षेत्रअध्यापक, लेखक, कवि
मुख्य रचनाएँवीणा, पल्लव, चिदंबरा, युगवाणी, लोकायतन, युगपथ, स्वर्णकिरण, कला और बूढ़ा चाँद आदि
विषयगीत, कविताएँ
भाषाहिन्दी
विद्यालयजयनारायण हाईस्कूल, म्योर सेंट्रल कॉलेज
पुरस्कार-उपाधिज्ञानपीठ पुरस्कार, पद्म भूषण, साहित्य अकादमी पुरस्कार , ‘लोकायतन’ पर सोवियत लैंड नेहरु पुरस्कार
नागरिकताभारतीय
आंदोलनरहस्यवाद व प्रगतिवाद
Sumitranandan Panth

सुमित्रानंदन पन्त का जीवन परिचय (Sumitranandan Pant ka jeevan parichay)

हिंदी साहित्य का भारतीय इतिहास में अमूल्य योगदान रहा हैं। भारत भूमि पर ऐसे कई लेखक और कवि हुए हैं जिन्होंने अपनीकलम की ताकत से समाज सुधार के कार्य किये। जैसे जयशंकरप्रसाद, महादेवी वर्मा, सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला’ आदि। आज हमआपको हिंदी भाषा के ऐसे ही कवि सुमित्रानंदन पन्त के बारे मेंबताने जा रहे हैं जिनके बिना हिंदी साहित्य की कल्पना ही नहीं कीजा सकती हैं।

सुमित्रानंदन पन्त का जन्म (Sumitra nandan pant ka janam)

सुमित्रानन्दन पन्त का जन्म 20 मई 1900 को अल्मोड़ा जिले केकौसानी नामक गांव में हुआ था। जो कि उत्तराखंड में स्थित हैं। इनके पिताजी का नाम गंगा दत्त पन्त और माताजी का नाम सरस्वती देवी था। जन्म के कुछ ही समय बाद इनकी माताजी का निधन हो गया था। पन्तजी का पालन-पोषण उनकी दादीजी ने किया। पन्त सात भाई-बहनों में सबसे छोटे थे। बचपन में इनकानाम गोसाई दत्त रखा था। पन्त को यह नाम पसंद नहीं था इसलिए इन्होने अपना नाम बदलकर सुमित्रानंदन पन्त रख लिया। सिर्फ 7 साल की उम्र में ही पन्त ने कविता लिखना प्रारंभ कर दिया था।

सुमित्रानंदन पन्त की शिक्षा और प्रारंभिक जीवन (Sumitra nandan panth ki shiksha or prarambik jeevan)

पन्त ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अल्मोड़ा से पूरी की। हाई स्कूल की पढाई के लिए 18 वर्ष की उम्र में अपने भाई के पास बनारस चलेगए। हाई स्कूल की पढाई पूरी करने के बाद पन्त इलाहाबाद चले गए और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में स्नातक की पढाई के लिए दाखिला लिया। सत्याग्रह आन्दोलन के समय पन्त अपनी पढाई बीच में ही छोड़कर महात्मा गाँधी का साथ देने के लिए आन्दोलनमें चले गए। पन्त फिर कभी अपनी पढाई जारी नही कर सके परंतु घर पर ही उन्होंने हिंदी, संस्कृत और बंगाली साहित्य का अध्ययनजारी रखा। 1918 के आस-पास तक वे हिंदी के नवीन धारा के प्रवर्तक कवि के रूप में पहचाने जाने लगे थे। वर्ष 1926-27 में पंतजी के प्रसिद्ध काव्य संकलन “पल्लव” का प्रकाशन हुआ। जिसके गीत सौन्दर्यता और पवित्रता का साक्षात्कार करते हैं। कुछ समय बाद वे अल्मोड़ाआ गए। जहाँ वे मार्क्स और फ्राइड की विचारधारा से प्रभावित हए थे। वर्ष 1938 में पंतजी “रूपाभ” नाम का एक मासिक पत्र शुरूकिया। वर्ष 1955 से 1962 तक आकाशवाणी से जुड़े रहे और मुख्य-निर्माता के पद पर कार्य किया।

सुमित्रानंदन पन्त की काव्य कृतियाँ (Sumitranandan pant ka kavya krutiyan)

सुमित्रानंदन पंत की कुछ अन्य काव्य कृतियाँ हैं – ग्रन्थि, गुंजन, ग्राम्या, युगांत, स्वर्णकिरण, स्वर्णधूलि, कला और बूढा चाँद, लोकायतन, चिदंबरा, सत्यकाम आदि हैं। उनके जीवनकाल में उनकी 28 पुस्तकें प्रकाशित हुई। जिनमें कविताएं, पद्य-नाटक और निबंध शामिल हैं। पंत अपने विस्तृत समय में एक विचारक, दार्शनिक और मानवतावादी के रूप में सामने आते हैं किंतु उनकी सबसे कलात्मक कविताएं “पल्लव” में संकलित हैं, जो 1918 से 1924 तक लिखी गई 32 कविताओं का संग्रह है। – Sumitranandan pant

सुमित्रानंदन पन्त के पुरुस्कार और उपलब्धियाँ (Sumitra nandan pant ke puraskaar or uplabdiyan)

अपने सहित्यिक सेवा के लिए पन्त जी को पद्मभूषण (1961), ज्ञानपीठ(1968), साहित्य अकादमी, तथा सोवियत लैंड नेहरूपुरस्कार जैसे उच्च श्रेणी के सम्मानों से अलंकृत किया गया। पन्त जी कौशानी में बचपन में जिस घर में रहते थे, उस घर को सुमित्रानंदन पन्त वीथिका के नाम से एक संग्रहालय के रूप में परिवर्तित कर दिया गया हैं। इसमें उनके व्यक्तिगत प्रयोग की वस्तुओं जैसे कपड़ों, कविताओं की मूल पांडुलिपियों, छायाचित्रों, पत्रों और पुरस्कारों को प्रदर्शित किया गया है। इसमें एक पुस्तकालय भी है, जिसमें उनकी व्यक्तिगत तथा उनसे संबंधित पुस्तकों का संग्रह है। संग्रहालय में उनकी स्मृति में प्रत्येक वर्ष पंत व्याख्यान माला का आयोजन होता है। यहाँ से ‘सुमित्रानंदन पंत व्यक्तित्व और कृतित्व’ नामक पुस्तक भी प्रकाशित की गई है। उनके नाम पर इलाहाबाद शहर में स्थित हाथी पार्क का नाम सुमित्रा नंदन पंतउद्यान कर दिया गया है।

sumitranandan pant, sumitra nandan pant, sumitra nandan panth
sumitranandan panth musium

सुमित्रानंदन पन्त की मृत्यु (Sumitranandan pant ki mrutue)

28 दिसम्बर 1977 को हिंदी साहित्य का प्रकाशपुंज संगम नगरी इलाहाबाद में हमेशा के लिए बुझ गया। सुमित्रानंदन पन्त को आधुनिक हिंदी साहित्य का युग प्रवर्तक कवि माना जाता हैं।

Hinglish bhasha me Sumitranandan Pant ka jeevan parichay

sumitraanandan pant ka jeevan parichay

hindi saahitya ka bharatia itihaas mein amooly yogdaan raha hain. bharat bhoomi par aise kaee lekhak aur kavi hue hain jinhone apanee kalam ki taakat se samaaj sudhaar ke kaarya kiye. jaise jayshankar prasad, mahadevi verma, suryakant tripati “NIRALA” adi. aaj hum aapako hindi bhasha ke aise hi kavi sumitranandan pant ke bare me batane ja rahe hain jinke bina hindi sahitya ki kalpana hi nahi ki ja sakati hain.

sumitranandan pant ka janm

sumitranandan pant ka janm 20 may 1900 ko almoda jile ke kausani naamak gaaun mein hua tha. jo ki uttarakhand mein sthit hain. inake pitaji ka naam ganga datt pant aur mataji ka naam saraswati devi tha. janm ke kuchh hi samay baad inaki mataji ka nidhan ho gaya tha. pantji ka paalan-poshan unaki dadiji ne kiya. pant 7 bhai-bahano mein sabase chote the. bachapan mein inka naam gosai datt rakha tha. pant ko ye naam pasand nahi tha isilie inhone apana naam badalakar sumitranandan pant rakh liya. sirf 7 saal ki umr mein hi pant ne kavita likhna prarambh kar diya tha.

sumitranandan pant ki shiksha aur prarambhik jeevan

pant ne apani prarambhik shiksha almoda se puri ki. high school ki padhai ke lie 18 varsh ki umr mein apane bhai ke paas banaras chale gae. high school ki padhai puri karane ke baad pant alahabad chale gae aur alahabad university mein snatak kee padhai ke lie dakhila liya. satyagrah aandolan ke samay pant apani padhai beech mein hee chodakar mahatma gandhi ka saath dene ke lie aandolan men chale gae. pant phir kabhi apani padhaee jaari nahee kar sake parantu ghar par hee unhone hindi, sanskrit aur bangaali sahitya ka adhyayan jaari rakha. 1918 ke aas-paas tak ve hindi ke naveen dhaara ke pravartak kavi ke roop mein pahachaane jaane lage the. varsh 1926-27 mein pantji ke prasidh kaavy sankalan “pallav” ka prakashan hua. jisake geet saundaryata aur pavitrata ka saakshaatkaar karate hain. kuch samay baad ve almoda gae. jahaan ve marx aur fried ki vichaardhaara se prabhavit hue the. varsh 1938 mein pantji “rupabh” naam ka ek masik patr shuru kiya. varsh 1955 se 1962 tak aakashvani se jude rahe aur mukhya-nirmata ke padh par karya kiya.

sumitranandan pant ki kavya krutiya

sumitranandan pant ki kuch anya kavy krutiyan hain

  • granthi
  • gunjan
  • graamya
  • yugaant
  • svarnakiran
  • svarnadhooli
  • kala aur boodha chaand
  • lokaayatan
  • chidambara
  • satyakaam

unake jeevan kaal mein unaki 28 pustaken prakashit hui. jinamen kavitaen, padya-naatak aur nibandh shamil hain. pant apane vistrut samay mein ek vichaarak, daarshanik aur manavta vadi ke rup mein samane aate hain kintu unaki sabase kalaatmak kavitaen “pallav” mein sankalit hain, jo 1918 se 1924 tak likhee gaee 32 kavitaon ka sangrah hai.

sumitranandan pant ke puraskar aur uplabdhiyaan

apane sahityik seva ke lie pant ji ko padmabhushan (1961), gyanpith(1968), sahitya academy, tatha soviyat land neharupuraskaar jaise uchch shreni ke sammano se alankrit kiya gaya. pant ji kaushani mein bachapan mein jis ghar mein rahate the, us ghar ko sumitranandan pant vithika ke naam se ek sangrahalay ke rup mein parivartit kar diya gaya hain. isamen unake vyaktigat prayog ki vastuon jaise kapado, kavitaon kee mool pandulipiyon, chaayachitron, patron aur puraskaron ko pradarshit kiya gaya hai. isamen ek pustakalay bhi hai, jisamen unaki vyaktigat tatha unase sambandit pustakon ka sangrah hai. sangrahalay mein unaki smruti mein pratyek varsh pant vyakhyamala ka aayojan hota hai. yahaan se sumitranandan pant vyaktitv aur krutitv namak pustak bhi prakashit ki gai hai. unake naam par allahaabad shahar mein sthit hathi park ka naam sumitra nandan pant udyaan kar diya gaya hai.

sumitranandan pant ki mrityu

28 december 1977 ko hindi sahitya ka prakashapunj sangam nagari allahabad mein hamesha ke lie bujh gaya. sumitranandan pant ko aadhunik hindi sahitya ka yug pravartak kavi maana jaata hain.