Mahadevi Verma ka jeevan parichay | महादेवी वर्मा की जीवनी

Mahadevi verma
mahadevi verma ka jeevan parichay

महादेवी वर्मा का जीवन परिचय | Mahadevi verma ka jeevan parichay

जीवन परिचयMahadevi Verma हिन्दी भाषा की प्रख्यात कैवयित्री हैं और वह आधुनिक हिन्दी कविता में एक महत्त्वपूर्ण शक्ति के रूप में उभरीं। वह छायावादी युग के प्रमुख स्तंभों में से एक है। हिंदी साहित्य में महादेवी वर्मा आधुनिक मीरा के नाम से भी जानी जाती हैं, उनका जन्म 26 मार्च 1907 में उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद नामक शहर में हुआ था।

पूरा नाममहादेवी वर्मा
जन्म26 मार्च, 1907
जन्म भूमिफ़र्रुख़ाबाद, उत्तर प्रदेश
मृत्यु11 सितम्बर, 1987
मृत्यु स्थानप्रयाग, उत्तर प्रदेश
अभिभावकगोविन्द प्रसाद वर्मा, हेमरानी देवी
पतिडॉ. स्वरूप नरेन वर्मा
कर्म भूमिइलाहाबाद
कर्म-क्षेत्रअध्यापक, लेखिका
मुख्य रचनाएँदीपशिखा, मेरा परिवार, स्मृति की रेखाएँ, पथ के साथी, शृंखला की कड़ियाँ, अतीत के चलचित्र, नीरजा, नीहार
विषयगीत, रेखाचित्र, संस्मरण व निबंध
भाषाहिन्दी
विद्यालयक्रास्थवेट कॉलेज, इलाहाबाद विश्वविद्यालय
शिक्षाएम.ए. (संस्कृत)
पुरस्कार-उपाधिसेकसरिया पुरस्कार (1934), द्विवेदी पदक (1942), भारत भारती पुरस्कार (1943), मंगला प्रसाद पुरस्कार (1943) पद्म भूषण (1956), साहित्य अकादेमी फेल्लोशिप (1979), ज्ञानपीठ पुरस्कार (1982), पद्म विभूषण (1988)
नागरिकताभारतीय
विधागद्य और पद्य
अन्य जानकारीस्वाधीनता प्राप्ति के बाद 1952 में महादेवी वर्मा उत्तर प्रदेश विधान परिषद की सदस्या मनोनीत की गईं।
Mahadevi Verma ka jeevan parichay

महादेवी वर्मा का परिवार | Mahadevi Verma Ka parivaar

उनके पिता का नाम गोविंद प्रसाद वर्मा था जो कि भागलपुर के कॉलेज में प्रधानाचार्य  के पद पर कार्यरत थे। उनकी माता का नाम हेमरानी था जोकि एक कवयित्री थी एवं श्री कृष्ण में अटूट श्रद्धा रखती थी और वे प्रतिदिन कई घंटे पूजा-पाठ करती थी। इसके बिल्कुल विपरीत उनके पिता गोविन्द प्रसाद वर्मा संगीत प्रेमी, नास्तिक, शिकार करने एवं घूमने के शौकीन, मांसाहारी तथा हँसमुख व्यक्ति थे। हिंदी काव्य जगत के दो  सर्वश्रेष्ठ कवियों सुमित्रानंदन पंत और सूर्यकांत त्रिपाठी “निराला” को महादेवी वर्मा राखी बांधती थी, Mahadevi verma ने निराला जी को लगभग 40 वर्षों तक राखी बांधी थी।

महादेवी वर्मा की शिक्षा | Mahadevi Verma ki Shiksha

Mahadevi Verma की प्रारंभिक शिक्षा इंदौर में जबकि उच्च शिक्षा प्रयाग इलाहाबाद में हुई थी। महादेवी वर्मा जी ने आठवीं कक्षा में प्रान्त भर में प्रथम स्थान प्राप्त किया। यहीं पर उन्होंने अपने काव्य जीवन की शुरुआत की। 9 वर्ष की छोटी सी अवस्था में ही उनका विवाह स्वरूप नारायण वर्मा से हो गया था किन्तु इन ही दिनों में इनकी माता का स्वर्गवास हो गया और इस विकट स्थिति में भी इन्होंने धैर्य नहीं छोड़ा और अपना अध्ययन जारी रखा। इसी परिश्रम के फलस्वरूप आपने मैट्रिक से लेकर B.A. तक की परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की आपने बालिकाओं की शिक्षा के लिए भी काफी प्रयास किए और साथ ही साथ नारी की स्वतंत्रता के लिए भी संघर्ष करती रही आपके जीवन पर राष्ट्रपिता महात्मा गांध्ी का एवं कला साहित्य साधना पर रवींद्रनाथ टैगोर का गहरा प्रभाव पड़ा।

महादेवी वर्मा की मृत्यु | Mahadevi Verma ki mritue

Mahadevi Verma जी का जीवन एक संन्यासिनी का जीवन था । उन्होंने जीवन भर श्वेत वस्त्र पहना, तख्त पर सोईं और कभी शीशा नहीं देखा। सन् 1966 में पति की मृत्यु के बाद वे स्थाई रूप से इलाहाबाद में रहने लगीं। भावुकता एवं करुणा आपके कार्य की पहचान है और इन्हीं कारणों से आपको आधुनिक युग की मीरा भी कहा जाता है। 11 सितंबर 1987 को महादेवी वर्मा की मृत्यु हो गई।

महादेवी वर्मा की रचनाएं | Mahadevi Verma ki rachnae

  • नीहार
  • रश्मि
  • नीरजा
  • सांध्यगीत
  • दीपशिखा
  • यामा
  • मेरा परिवार
  • अतीत के चलडित्र
  • स्मृति की रेखाये
  • गिल्लू

महादेवी वर्मा जी के पुरस्कार | Mahadevi Verma ji ke puraskar

महादेवी वर्मा के रचनात्मक गुण और तेज़ बुद्धि ने जल्द ही उन्हें हिंदी भाषा की दुनिया में एक उच्च पद पर पहुंचाया। 1934 में, उनके द्वारा रचित “नीरजा” के लिए हिंदी साहित्य सम्मलेन ने उन्हें सेकसरिया पुरस्कार से सम्मानित किया। स्वाधीनता प्राप्ति के बाद 1952 में वे उत्तर प्रदेश विधान परिषद की सदस्या मनोनीत की गयीं। 1956 में भारत सरकार ने उन्हें पदम्भू षण प्रदान किया,और 1979 में उन्हें साहित्य अकादमी अनुदान का पुरस्कार दिया गया। 1988 में, भारत सरकार ने उन्हें मरणोपरांत पदम्वि भूषण प्रदान किया, जो भारत सरकार का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। आधुनिक गीत काव्य में महादेवी जी का स्थान सर्वोपरि है। महादेवी वर्मा के व्यक्तित्व में संवेदना दृढ़ता और आक्रोश का अदभुत संतुलन मिलता है। वे अध्यापक, कवि, गद्यकार, कलाकार, समाजसेवी और विदुषी के बहुरंगे मिलन का जीता जागता उदाहरण थीं। उनकी काव्य साधना के लिए संपूर्ण हिंदी जगत सदैव उनका आभारी रहेगा।

Mahadevi Verma ka jeevan parichay

jeevan parichay – mahadevi verma hindi bhasha ki prakhyaat kavitri hain aur ve aadhunik hindi kavita mein ek mahatvapurn shakti ke roop mein ubhareen. ve chayavadi yug ke pramukh stambhon mein se ek hai. hindi saahitya mein mahadevi verma aadhunik meera ke naam se bhi jaani jaati hain, unaka janm 26 march 1907 mein uttar pradesh ke farukhabad naamak shahar mein hua tha.

mahadaivi vairm ka parivaar

unake pita ka naam govind prasad verma tha jo ki bhagalapur ke college mein pradhanacharya ke padh par kaaryarat the. unaki mata ka naam hemarani tha joki ek kavitri thi evam shree krishna mein atoot shraddha rakhati thi aur ve pratidin kaee ghante pooja-paath karati thi. isake bilkul vipareet unake pita govind prasad verma sangeet premee, naastik, shikaar karane evam ghoomane ke shaukeen, maansahaari tatha hansamukh vyakti the. hindi kaavya jagat ke do sarvashreshth kaviyon sumitraanandan pant aur suryakant tripati “Nirala” ko mahadevi verma rakhee bandhati thi, mahadevi verma ne Nirala ji ko lagabhag 40 varsho tak rakhee bandhi thi.

mahadevi verma ki shiksha

mahadevi verma ki prarambhik shiksha indore mein jabaki ucchh shiksha prayaag allahabad mein hui thi. mahadevi verma ji ne 8 vi kaksha mein praant bhar mein pratham sthaan praapt kiya. yaheen par unhonne apane kaavya jeevan ki shuruat ki. 9 varsh ki choti si avastha mein hi unaka vivaah swarup narayan verma se ho gaya tha kintu in hi dino mein inki mata ka swargvas ho gaya aur is vikat sthiti mein bhi inhone dhairya nahi choda aur apana adhyayan jaari rakha. isi parishram ke phalswarup aapane metrix se lekar B.A. tak ki pariksha pratham shreni mein uttirn ki aapane baalikaon ki shiksha ke lie bhi kaafi prayaas kiya aur saath hi saath naari ki swatantrata ke liye bhi sangharsh karati rahi aapake jeevan par rashtrapita mahatma gandhi ka evam kala saahitya sadhana par rabindranath tagore ka gahara prabhav pada.

mahadevi verma ki mrityu

mahadevi verma ji ka jeevan ek sanyasini ka jeevan tha . unhone jeevan bhar shwet vastra pahane , takht par soi aur kabhi sheesha nahin dekha. sun 1966 mein pati ki mrityu ke baad ve sthai roop se allahabad mein rahane lagi. bhavukata evam karuna aapake kaarya ki pahachaan hai aur inhi kaarano se aapako aadhunik yug ki meera bhi kaha jaata hai. 11 september 1987 ko mahadevi verma ki mrtyu ho gaee.

mahadevi verma ki rachanaen

  • nihaar
  • rashmi
  • neeraj
  • sandhyageet
  • deepashikha
  • yaama
  • mera parivar
  • ateet ke chalchitra
  • smruti ki rekhaye
  • gillu

mahadevi verma ji ke puraskar

mahadevi verma ke rachnaatmak gun aur tez buddhi ne jald hee unhe hindi bhasha ki duniya mein ek uchch pad par pahunchaaya. 1934 mein, unake dwara rachit “Neeraj” ke liye hindi saahitya sammelan ne unhe sekasariya puraskaar se sammanit kiya. swadhinata praapti ke baad 1952 mein ve uttar pradesh vidhaan parishad ki sadasya manoneet ki gayee. 1956 mein bhaarat sarakar ne unhe padmabhoo shan pradaan kiya, aur 1979 mein unhen saahitya academy anudaan ka puraskaar diya gaya. 1988 mein, bharat sarakar ne unhe maranoparant padamvi bhooshan pradaan kiya, jo bharat sarakar ka doosara sarvochch naagarik samman hai. aadhunik geet kaavya mein mahadevi ji ka sthan sarvopari hai. mahadevi verma ke vyaktitv mein sanvedana dridata aur aakrosh ka adabhut santulan milata hai. ve adhyaapak, kavi, gadyakaar, kalaakar, samajsevi aur vidushi ke bahurange milan ka jeeta jaagata udaaharan thi. unaki kaavya saadhana ke lie sampoorn hindi jagat sadaiv unka aabhaari rahega.

Leave a Comment